महेश अपनी शादी से खुश था। अपनी नई नवेली दुल्हन अंजली को शादी के दूसरे दिन ही दहेज मे मिली नई चमाचमाती गाड़ी से शाम को महेश लॉन्ग ड्राइव पर लेकर निकला ! महेश गाड़ी बहुत तेज भगा रहा था,अंजली ने उसे ऐसा करने से मना किया।

Inspirational Story in hindi , bhikhari kaun hai , motivational story , gyaan ki dhara

महेश बोला :-अरे भई ! मजे लेने दो आज तक दोस्तों की गाड़ी चलाई है,आज अपनी गाड़ी है सालों की तमन्ना पूरी हुई ! मैं तो खरीदने की सोच भी नही सकता था,इसीलिए शादी में तुम्हारे पिता जी से मांग करी थी !

अंजली बोली :- अच्छा,म्यूजिक तो कम रहने दो,आवाज कम करते अंजली बोली,तभी अचानक गाड़ी के आगे एक भिखारी आ गया, बडी मुश्किल से ब्रेक लगाते,पूरी गाड़ी घुमाते महेश ने उसे बचाया मगर तुरंत उसको गाली देकर बोला-अबे मरेगा क्या भिखारी साले,देश को बरबाद करके रखा है तुम लोगों ने,तब तक अंजली गाड़ी से निकलकर उस भिखारी तक पहुंची देखा तो बेचारा अपाहिज था।

उससे माफी मांगते हुए और पर्स से 100 रू निकालकर उसे देकर बोली :- माफ करना काका वो हम बातों में…….कही चोट तो नही लगी.. ? यह लीजिए हमारी शादी हुई है मिठाई खाइएगा और आर्शिवाद दीजिएगा,इतना कहकर अंजली ने उसे साइड में फुटपाथ पर ले जाकर बिठा दिया,भिखारी दुआएं देने लगा।

गाड़ी में वापस बैठी अंजली से महेश बोला :- तुम जैसों की वजह से इनकी हिम्मत बढती है तुम्हे भिखारी को अपने मुंह नही लगाना चाहिए।

अंजली मुसकुराते हुए बोली :- महेश,भिखारी तो मजबूर था इसीलिए भीख मांग रहा था वर्ना कुछ लोग तो सबकुछ सही होते हुए भी भीख मांगते हैं दहेज लेकर ! जानते हो खून पसीना मिला होता है गरीब लड़की के माँ – बाप का इस दहेज में और लोग मांगने से पहले एक बार भी नही सोचते.. तुमने भी तो पापा से गाड़ी मांगी थी तो कौन भिखारी हुआ..? वो मजबूर अपाहिज या ..?

एक बाप अपने जिगर के टुकड़े को २० – २२ सालों तक संभालकर रखता है दूसरे को दान करता है जिसे कन्यादान क्या “महादान” तक कहा जाता है ताकि दूसरे का परिवार चल सके उसका वंश बढे और किसी की नई गृहस्थी शुरू हो,उसपर दहेज मांगना भीख नही तो क्या है बोलो ..? कौन हुआ भिखारी वो मजबूर या तुम जैसे दूल्हे ….महेश एकदम खामोश नीची नजरें किए सब सुनता रहा क्योंकि….
अजली की बातों से पडे तमाचे ने उसे बता दिया था कि कौन है सचमुच का भिखारी।

दोस्तों हमारा “ भिखारी कौन हैं..? ” Motivational Article कैसा लगा। यदि आप का इस आर्टिकल से सम्बंधित कोई सुझाव,शिकायत हो तो आप हमें gyaankidhara@gmail.com पर Contact कर सकते हैं धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here