दोस्तों हमारे पूर्व प्रधनमंत्री और सबके चहेते श्री अटल बिहारी वाजपयी जी का जीवन उन्ही की तरह हमेशा हमारे बीच चमकता रहेगा। बचपन से ही अटल जी के सार्वजनिक कार्यों में विशेष रुचि थी।

पूर्व प्रधानमंत्री और भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी आज हमारे बीच तो नहीं हैं लेकिन उनके भाषणों के बोल और कविताएं लोगों के बीच कभी खत्म नहीं होंगी। अटल हर युवाओं के बीच अपनी कविताओं की वजह से काफी लोकप्रिय हुए थे। अटल जी की जिंदगी का एक बड़ा समय कानपुर में बीता।

दोस्तों ज्ञान की धारा के इस मंच पर आज मैं आप लोगों के साथ श्री अटल बिहारी वाजपेयी के जीवन से जुड़ी कुछ मत्वपूर्ण बातें शेयर करना चाहता हूँ।

Atal bihari, atal bihari jivani, atal biography, atal bihari se jude rochak tathy

– अटल बिहारी वाजपेयी जी का जन्म 25 दिसंबर 1924 ग्वालियर, मध्य प्रदेश में हुआ था।


– वह भारतीय जनसंघ की स्थापना करने वालों में से एक हैं और सन् 1968 से 1973 तक वह उसके राष्ट्रीय अध्यक्ष भी रह चुके हैं।


– सन् 1955 में उन्होंने पहली बार लोकसभा चुनाव लड़ा, परन्तु सफलता नहीं मिली।


– सन् 1957 से 1977 तक जनता पार्टी की स्थापना तक वे बीस वर्ष तक लगातार जनसंघ के संसदीय दल के नेता रहे।


– मोरारजी देसाई की सरकार में सन् 1977 से 1979 तक विदेश मन्त्री रहे।


– 1980 में जनता पार्टी से असन्तुष्ट होकर इन्होंने जनता पार्टी छोड़ दी और भारतीय जनता पार्टी की स्थापना में मदद की। 6 अप्रैल 1980 में बनी भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष पद का दायित्व भी वाजपेयी को सौंपा गया।


– अटल बिहारी वाजपेयी ने सन् 1997 में प्रधानमन्त्री के रूप में पहली बार देश की बागडोर संभाली।


– अटल बिहारी वाजपेयी जी ने 19 अप्रैल 1998 को पुनः प्रधानमन्त्री पद की शपथ ली और अपना 5 साल का कार्यकाल पूर्ण किया।


– परमाणु शक्ति सम्पन्न देशों की संभावित नाराजगी से विचलित हुए बिना उन्होंने अग्नि-दो और परमाणु परीक्षण कर देश की सुरक्षा के लिये साहसी कदम भी उठाये।


– अटल सरकार ने 11 और 13 मई 1998 को पोखरण में पाँच भूमिगत परमाणु परीक्षण विस्फोट करके भारत को परमाणु शक्ति संपन्न देश घोषित कर दिया।


– 19 फ़रवरी 1999 को सदा-ए-सरहद नाम से दिल्ली से लाहौर तक बस सेवा शुरू की गई। इस सेवा का उद्घाटन करते हुए प्रथम यात्री के रूप में वाजपेयी जी ने पाकिस्तान की यात्रा करके नवाज़ शरीफ से मुलाकात की।


– भारत भर के चारों कोनों ( दिल्ली-मुम्बई-चैन्नई- कलकत्ता) को सड़क मार्ग से जोड़ने के लिए स्वर्णिम चतुर्भुज परियोजना की शुरुआत की गई।


– ऐसा भी माना जाता है कि अटल जी के शासनकाल में भारत में जितनी सड़कों का निर्माण हुआ इतना केवल शेरशाह सूरी के समय में ही हुआ था।


– अटल सबसे लम्बे समय तक सांसद रहे हैं और जवाहरलाल नेहरू व इंदिरा गांधी के बाद सबसे लम्बे समय तक गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री भी।


– अटल ही पहले विदेश मंत्री थे जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र संघ में हिन्दी में भाषण देकर भारत को गौरवान्वित किया था।


– वह पहले प्रधानमंत्री थे जिन्होंने गठबन्धन सरकार को न केवल स्थायित्व दिया अपितु सफलता पूर्वक संचालित भी किया।


– अटल बिहारी वाजपेयी राजनीतिज्ञ होने के साथ-साथ एक कवि भी हैं। मेरी इक्यावन कविताएँ अटल जी का प्रसिद्ध काव्यसंग्रह है।


– उनके पिता कृष्ण बिहारी वाजपेयी ग्वालियर रियासत में अपने समय के जाने-माने कवि थे।


– अटल बिहारी वाजपेयी जी आजीवन अविवाहित रहे।


– अटल बिहारी वाजपेयी जी को मिले पुरस्कार

1992: पद्म विभूषण
1993: डी लिट (कानपुर विश्वविद्यालय)
1994: लोकमान्य तिलक पुरस्कार
1 994: श्रेष्ठ सासंद पुरस्कार
1994: भारत रत्न पंडित गोविंद वल्लभ पंतपुरस्कार
2014 दिसम्बर : भारत रत्न से सम्मानित।
2015 : डी लिट (मध्य प्रदेश भोज मुक्त विश्वविद्यालय)
2015 : ‘फ्रेंड्स ऑफ बांग्लादेश लिबरेशन वार अवॉर्ड’, (बांग्लादेश सरकार द्वारा दिया गया)


लेख सोर्स :- विकिपीडिया

दोस्तों हमारा “ भारतरत्न अटल बिहारी वाजपेयी के जीवन से जुड़ी रोचक बातें ” सामान्य ज्ञान Article कैसा लगा। यदि आप का इस आर्टिकल से सम्बंधित कोई सुझाव, शिकायत हो तो आप हमें gyaankidhara@gmail.com पर Contact कर सकते हैं धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here